आखिर क्या होता है NPA, जानिए आसान भाषा में पूरी जानकारी

By | August 24, 2021

बीते काफी समय से एक शब्द आपको सुनने को मिल रहा होगा, यह शब्द था NPA। वैसे बैंकिंग से जुड़े लोगों को NPA शब्द के विषय में पहले से जानकारी होगी, साथ ही वे लोग भी इसे अच्छी तरह से जानते होंगे, जिनकों बैंको में जाने का ज्यादा काम पड़ता है।

वैसे तो वर्तमान में NPA शब्द के सुर्ख़ियों में होने का कारण आये दिन लोने लेने के बाद हो रहे घोटालों से जुड़ी घटनाओं का खुलकर सामने आना है।

वैसे तो NPA के चलते कई बड़े बैंकों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है तथा हर बैंक इससे जुड़े समाधान को खोजने के प्रयासों में लगा हुआ है। ऐसे में आपके मन में भी सवाल उठता होगा कि आखिर NPA होता क्या है तथा NPA के कारण बैंक को नुकसान का सामना कैसे करना पड़ता है। तो आज हम अपने आर्टिकल में आपको बताएंगे कि आखिर क्या होता है NPA।

आखिर क्या होता है NPA, जानिए आसान भाषा में पूरी जानकारी
आखिर क्या होता है NPA, जानिए आसान भाषा में पूरी जानकारी

क्या है NPA

सबसे पहले आपको एनपीए का फुलफॉर्म जानने की आवश्यकता है। तो बता दे कि एनपीए का फुलफॉर्म होता है Non-performing asset। इसे हिंदी में गैर निष्पादित संपत्ति के नाम से जाना जाता है।

हालांकि अभी भी आपको एनपीए के बारे में ठीक से समझ नहीं आया होगा। ऐसे में अगर इसे सरल भाषा में समझे तो जब भी कभी कोई बैंक का कर्ज़दार अपने बैंक को EMI देने में असमर्थ रहता है तब उसका वह लोन NPA या नॉन परफॉर्मिंग एसेट कहा जाता है।

अर्थात NPA बैंक का वो कर्ज होता है जो पूरी तरह से डूब गया होता है, या फिर उसकी आने की कोई उम्मीद बैंक को दिखाई नहीं देती। बता दे कि बैंक द्वारा किसी कर्ज (लोन) की ईएमआई 3 महीने तक ना आने पर भी उस लोन से संबंधित अकाउंट को NPA घोषित कर दिया जाता है।


ये भी पढ़िए

2021 में भारत के प्रधानमंत्री कौन है, जानिए Prime minister के जीवन की खास बातें

आखिर किस देश की कंपनी है Samsung, कौन है Samsung का मालिक

PUBG किस देश का गेम है और इस गेम का मालिक कौन है


NPA से बैंको पर असर

आखिर क्या होता है NPA, जानिए आसान भाषा में पूरी जानकारी
आखिर क्या होता है NPA, जानिए आसान भाषा में पूरी जानकारी

जैसा कि हमने आपको बताया कि जब भी कभी बैंक को किसी कर्ज के वापस आने की उम्मीद पूरी तरह से ख़त्म हो जाती है तो बैंक द्वारा उसे NPA घोषित कर दिया जाता है।

NPA को बेड लोड के नाम से भी जाना जाता है। वैसे तो लोन के कई तरह के क्लासिफिकेशन होते है, जिनमें स्टैंडर्ड, सब स्टैंडर्ड, डाउटफुल और लोस एसेट आते है।

भारत में ऐसी बहुत से कंपनियां है, जो बड़ी रकम लोन पर लेने के बाद उस रकम को लौटने में नाकाम रहती है या देने में आनाकानी करती है, जिससे वह कर NPA में चला जाता है और बैंकों को इस कारण भारी नुकसान उठाना पड़ता है।


ये भी पढ़िए

अपने PC या लैपटॉप में Jio TV कैसे चलाए, जानिए पूरा तरीका

मिनटों में कैसे निकाले Airtel, Idea, Jio Sim की Call Details

TIK TOK के मालिक का नाम क्या है तथा यह किस देश का एप्लीकेशन है


लोन पर डिफाल्ट के चलते बैको पर ज्यादा असर ने पड़े, इसे ध्यान में रखकर RBI ने इसे प्रोविजन करने के नियम बनाए है।

बैंकों को प्रोविजन की राशि बिज़नेस से अलग रखनी होती है। ग़ौरतलब है कि वर्तमान में भारतीय बैंकों में 8.50 लाख करोड़ का NPA (नॉन परफॉर्मिंग एसेट) है।

उम्मीद है आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया होगा और आपको आसान भाषा में जानकारी मिल गई होगी कि आखिर NPA क्या होता है।

ये भी पढ़िए

  1. अपना मोबाइल नंबर बदलकर किसी को Fake Call कैसे करे
  2. AM और PM का क्या मतलब होता है, जानिए पूरी जानकारी
  3. आखिर कितना है पृथ्वी का क्षेत्रफल, जानिए पूरी जानकारी
  4. Jio का मालिक कौन है और यह किस देश की कंपनी है
  5. जानिए फ्री में कैसे लगाए Jio फोन में अपने नाम की Caller Tune

FAQ

NPA का फुल फॉर्म क्या है?

NPA का फुल फॉर्म Non-performing asset। इसे हिंदी में गैर निष्पादित संपत्ति के नाम से जाना जाता है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *