कैसे करें Kaunch ke Beej का सेवन , जानिए पूरी जानकारी

Kaunch ke Beej– आयुर्वेद के पास में हर बीमारी और समस्या का समाधान उपलब्ध है। जहां केंसर जैसी बड़ी बीमारी का इलाज भी आयुर्वेद में संभव माना जाता है।

ऐसे में आज हम आपको बता रहे है कौंच के बीजों के उपयोग के बारे में। यह इतने ताकतवर औषधि है कि यह थकान और सेक्स से जुड़ी समस्या के उपचार में लाभकारी मानी जाती है। यह सेहत से जुड़े विभिन्न तरह के विकारों को दूर करने में भी बेहद उपयोगी मानी जाती है।

अगर कौंच के बीज का सही तरह से इस्तेमाल किया जाए तो यह पुरुष बाँझपन जैसे विकारों के उपचार में भी काफी मददगार होती है। हम अपने पिछले आर्टिकल में आपको गिलोय का काड़ा कैसे बनाए इस विषय में जानकरी दे चुके है। आज हम आपको जानकारी देंगे कि कौंच के बीज का सेवन कैसे करें।

कैसे करें Kaunch ke Beej का सेवन, जानिए पूरी जानकारी
कैसे करें Kaunch ke Beej का सेवन, जानिए पूरी जानकारी

Kaunch ke Beej क्या है

कौंच के बीज को कौंच के कपिकच्छु, किवांच, काउहैज, कोवंच, अलकुशी, कौंचा व कवच जैसे विभिन्न नामों से जाना जाता है। लेकिन इसका वैज्ञानिक नाम Mucuna pruriens होता है। मुख्यतः कौंच के बीज दो प्रकार के होते है, जंगली और खेती द्वारा लगाये गये।

बता दे कि जंगली कौंच में और खेती की गई कौंच में बस एक ही अंतर होता है कि खेती द्वारा उगाई गई कौंच में रोएं कम होती है। गौरतलब है कि इसकी रोएं त्वचा में खुजली और जलन का कारण बनती है।

खेत में उगाई गई कौंच क मखमली सेम अर्थात वेलवेट बीन्स के नाम से जाना जाता है। कौंच के बीज, पत्तों व जड़ तीनों आयुर्वेदिक औषधि निर्माण में उपयोग लायी जाती है।

Kaunch ke Beej क्या है
Kaunch ke Beej क्या है

ये भी पढ़िए

MC किसे कहते है तथा इसके लक्षण क्या होते है, जानिए पूरी जानकारी


Kaunch ke Beej के सेवन का तरीका 

  1.  अगर आप कौंच के बीज का सेवन कर रहे है तो आपको इसके बीज को कुछ समय पानी या फिर दूध में भिगोकर रखना होंगे।
  2. अब इसके छिलके को उतार कर धूप में सुखा दे।
  3. इसके बीज को सूखने के बाद बारीक पीसकर उसका चूर्ण बना लें।
  4. रोज सुबह और शाम को इसका सेवन दूध ये मिश्री के साथ करें। इससे आपकी सेक्स से जुडी समस्या दूर होगी।
  5. वहीं अगर दूध में उबालकर इसका सेवन करेंगे तो शारीरिक दुर्बलता दूर होती है।

अगर आप हमारे द्वारा बताए गए निर्देशों के अनुसार ही कौंच के बीजों का सेवन करेंगे तो आपको लाभ होगा। आप चाहे तो इस औषधि का सेवन करने से पहले डॉक्टर से भी सलाह ले सकते है। 

Kaunch ke Beej के सेवन का तरीका
Kaunch ke Beej के सेवन का तरीका 

ये भी पढ़िए

कैसे पता करें कि Abortion सफल हुआ था या नहीं, जानिए पूरी जानकारी


Kaunch ke Beej के फायदे 

अगर आप कौंच के बीज का उपयोग कर रहे हो तो यह आपको इसके फायदों के बारे में जानना बेहद जरूरी है, जैसे इसके सेवन से शुक्राणुता से लेकर पार्किंसंस रोग तक के इलाज में कौंच का उपयोग किया जाता है।

इसके अतिरिक्त सेहत से संबंधित विकारों, पुरुष बांझपन, तंत्रिका विकारों, कमजोरी, शीघ्रपतन आदि के उपचार के लिए किया जाता है।

इसके अतिरिक्त यह अन्य शारीरिक कमजोरी जैसे सेक्स पावर में कमी, तनाव, चिंता, में भी काफी लाभकारी है। कौंच के बीज के सेवन से शुगर और कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रित किया जा सकता है। 

कौंच के बीज के फायदे

रोगरोग
सेहत से संबंधित विकारोंपुरुष बांझपन
तंत्रिका विकारोंकमजोरी
शीघ्रपतनसेक्स पावर में कमी
तनावचिंता
शुगरकोलेस्ट्रॉल
Kaunch ke Beej के फायदे
Kaunch ke Beej के फायदे 

ये भी पढ़िए

Nurokind LC Tablet क्या है तथा किस तरह से काम करती है, जानिए पूरी जानकारी


Kaunch ke Beej करते है टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन 

जैसा कि हमने आपको जानकारी दी कि यह सेक्सुअल समस्या के उपचार में उपयोग में लायी जाती है। यह महिला और पुरुषों में कामेच्छा को बढ़ाने में सहायक  होता है।

यह महिला और पुरुष दोनों में टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन करने में सहायक होता है। बता दे कि टेस्टोस्टेरों का उत्पादन कम होता है, ऐसे में यह महिलाओं में टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन करता है।

बता दे कि टेस्टोस्टेरोन यौन संबंध और सेक्स की इच्छा के लिए बेहद महत्वपूर्ण हार्मोन होता है। यह पुरुषों में प्रोलैक्टिन नामक हार्मोन को बढ़ाने में मददगार होता है, जो कि  हार्मोनप्रजनन, चयापचय और इंम्‍यूनोरेगुलेटरी कार्यों के लिए बेहद लाभकारी होता है। 

Kaunch ke Beej करते है टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन
Kaunch ke Beej करते है टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन 

ये भी पढ़िए

Norflox 400 MG Tablet किस तरह काम करती है, जानिए पूरी जानकारी


Kaunch ke Beej से दूर होता है पुरुष बांझपन

इसके सेवन से पुरुषों में बांझपन की समस्या दूर होती है। कौंच के बीच टेस्टिकल्‍स के कार्य को प्रोत्साहित करके पिट्यूटरी ग्रंथि के कार्य को सुधारने में सहायता करता है, जिसके माध्यम से  शरीर में अधिक मात्रा में स्‍वस्‍थ्‍य और गतिशील शुक्राणु का उत्पादन होता है।

कौंच के बीज स्‍वस्‍थ्‍य शुक्राणुओं को होने वाले नुकसान से बचाती है, जिससे शुक्राणुओं के स्वस्थ स्खलन से गर्भधारण की संभावना बढ़ सके।

Kaunch ke Beej से दूर होता है पुरुष बांझपन
Kaunch ke Beej से दूर होता है पुरुष बांझपन

ये भी पढ़िए

Paracetamol 650 MG Tablet किस तरह काम करती है, जानिए पूरी जानकारी


Kaunch ke Beej से बढ़ता है सेक्स टाइम  

कौंच बीजों का इस्तेमाल थकान, यौन इच्छा की कमी और सेक्स टाइम को बढ़ाने के उपचार के लिए किया जाता है। यह शरीर के अन्दर फ्री रेडिकल को कम करने में भी सहायता करता है।

कौंच के बीज यौन क्रिया के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। यह टेस्‍टोस्‍टेरोन के स्‍तर को सुधारने और सेक्‍स टाइम को बढ़ाने में भी काफी मददगार होता है।

Kaunch ke Beej से बढ़ता है सेक्स टाइम
Kaunch ke Beej से बढ़ता है सेक्स टाइम  

ये भी पढ़िए

Unwanted Pregnancy से बचने के लिए क्या करें, जानिए पूरी जानकारी


बढ़ती उम्र को रोके Kaunch ke Beej

कौंच के बीज में डोपामाइन की मात्रा अधिक होती है। यह यौगिक पिट्यूटरी ग्रंथि को उत्‍तेजित करने का काम करता है। इसके साथ ही यह स्‍वस्‍थ्‍य हार्मोन को पूरे जीवन काल तक बनाए रखने में मदद करता है।

बता दे कि शरीर में विकास हार्मोन का उत्‍पादन 20 साल की उम्र के बाद धीरे-धीरे घटने लगता है, जो उर्म बढ़ने की प्रक्रिया मानी जाती है। अतः शरीर में विकास हार्मोन के स्‍तर को सामान्य रखने और युवा हार्मोन को बढ़ाने में सहायता प्रदान करता है। 

बढ़ती उम्र को रोके Kaunch ke Beej

ये भी पढ़िए

  1. Haemoglobin की कमी को कैसे दूर करें, जानिए पूरी जानकारी
  2. Solvin Cold Tablet का उपयोग क्या है, जानिए पूरी जानकारी
  3. Aciloc 150 MG Tablet का उपयोग और उसके साइड इफेक्ट क्या है, जानिए पूरी जानकारी
  4. Spasmonil Tablet के साइड इफेक्ट क्या है, जानिए पूरी जानकारी

FAQ

Kaunch ke Beej का वैज्ञानिक नाम क्या है?

Kaunch ke Beej का वैज्ञानिक नाम Mucuna pruriens होता है।

Kaunch ke Beej से पुरुष बांझपन कैसे दूर होता है ?

Kaunch ke Beej टेस्टिकल्‍स के कार्य को प्रोत्साहित करके पिट्यूटरी ग्रंथि के कार्य को सुधारने में सहायता करता है, जिसके माध्यम से  शरीर में अधिक मात्रा में स्‍वस्‍थ्‍य और गतिशील शुक्राणु का उत्पादन होता है।

Spread the love

Leave a Comment