Home Loan कैसे लें, जानिए पूरी जानकारी हिंदी में

हर व्यक्ति का एक सपना होता है कि उसका एक छोटा सा घर हो, जहां वह अपने परिवार के साथ में ख़ुशी ख़ुशी रह सके। लेकिन इस महंगाई के दौर में जीवनयापन से जुड़ी सभी चीजे काफी महंगी है। ऐसे में घर बनाने के लिए लगने वाले अतिरिक्त पैसों की व्यवस्था करना एक आम नागरिक के लिए काफी मुश्किल का काम है।

लेकिन अपने खुद के घर को खरीदने या बनाने से जुड़े इस सपने को पूरा करने के लिए आप Home Loan का सहारा ले सकते है। अगर आपके पास आपके आईडी प्रूफ या एड्रेस प्रूफ से जुड़े सभी दस्तावेज है, तो आप किसी भी बैंक या संस्थान में होम लोन के लिए आवेदन कर सकते है।

हम हमारे पिछले आर्टिकल में जहां आपको जानकारी दे चुके है कि Bank Loan कैसे ले, वहीं आज हम आपको जानकारी देंगे कि Home Loan कैसे लें। 

Home Loan कैसे लें, जानिए पूरी जानकारी हिंदी में
Home Loan कैसे लें, जानिए पूरी जानकारी हिंदी में

Home Loan क्या है 

जब किसी व्यक्ति को अपने घर को बनाने या फिर घर खरीदने के लिए पैसों की आवश्यकता होती है, तो वह बैंक या किसी ऐसे संस्थान के पास में जाता है, जो उसे कम ब्याज पर यह राशि उपलब्ध कराए। बैंक या संस्थान द्वारा घर को खरीदने के लिए ब्याज पर दी जाने वाली राशि ही होम लोन कहलाती है।

होम लोन देने के लिए बैंक आपसे कुछ जरुरी दस्तावेज मांगता है, साथ ही में वह आपकी आमदनी की भी जांच करता है। हर तरह के लोन का मिलना आपके सिविल स्कोर पर निर्भर होता है। होम लोन का मिलना भी आपके सिविल स्कोर पर ही निर्भर करेगा।

होम लोन पर लगने वाला ब्याज भी अलग अलग होता है। अर्थात हर बैंक या संस्थान अपने नियमों के आधार पर होम लोन या लोन पर ब्याज लेता है। ऐसे में आप होम लोन से जुड़ी पूरी जानकारी के बाद है लोन के लिए अल्पाय करें। 

Home Loan क्या है 
Home Loan क्या है 

बैंक आपको Home Loan कैसे देगा 

किसी भी बैंक द्वारा आपको होम देने से पहले आपको एलिजिबिलिटी अर्थात आपकी योग्यता की जांच की जाएगी। यहां बैंक द्वारा यह देखा जाता है, क्या आपकी क्षमता बैंक को लोन वापस करने की है या नहीं।

आपको बता दे कि इस क्षमता का आंकलन आपकी मासिक डिस्पोजेबल इनकम के आधार पर किया जाता है। इसके साथ ही बैंक यह देखता है कि आपकी पारिवारिक आय क्या है, आपके पास कितनी सम्पति है और आपकी देनदारियां कितनी है। साथ ही साथ में बैंक द्वारा आपकी इनकम की स्थिरता को भी देखा जाता है।

यहां बैंक द्वारा आपके विषय में इतनी जानकारियां लेने का मुख्य उद्देश्य यह होता है कि आप लिए गए लोन का आराम से सही समय पर भुगतान कर पाएंगे या नहीं तथा दी गई लोन की राशि का आपके द्वारा सही इस्तेमाल होगा की नहीं। आपको बता दे कि जितनी अधिक आपकी मासिक आय होगी, आपको उतनी अधिक राशि लोन के रूप में प्राप्त हो सकेगी। 

बैंक आपको Home Loan कैसे देगा
बैंक आपको Home Loan कैसे देगा

Home Loan के लिए जरूरी दस्तावेज 

बैंक द्वारा आपको होम लोन दिए जाने से पहले आपसे कुछ जरूरी डॉक्यूमेंट्स भी मांगे जाते है। बैंक द्वारा मांगे जाने वाले सभी पेपर्स का लीगल होना बहुत जरूरी है। अगर आपके द्वारा दिए गए किसी पेपर में बैंक को गलती नजर आती है तो आपका लोन रिजेक्ट हो सकता है। बैंक द्वारा मांगे जाने वाले डॉक्यूमेंट्स- 

  • पहचान प्रमाण पत्र 
  • निवास प्रमाण पत्र 
  • लेटेस्ट सैलरी स्लिप 
  • फॉर्म 16 (सेल्फ इम्प्लालाइड और व्यापारियों के लिए)
  • लास्ट 6 महीनो की बैंक स्टेटमेंट 

बताये गए दस्तावेजों के साथ आपको एक एप्लीकेशन फॉर्म भरकर, उसमें अपना फोटो लगाकर बैंक में सब्मिट करना होगा। आपको होम लोन लेते समय किसी भी तरह की जल्दबाजी नही करना चाहिए।

साथ ही में आपको बैंक द्वारा दिए जा रहे होम लोन के विषय में समबन्धित अधिकारी से विस्तार से चर्चा करनी चाहिए और होम लोन से जुड़े नियम, शर्तों तथा उसपे मिल रही किसी भी तथा की छूट के विषय में अच्छी तरह से जांच कर लेना चाहिए। 

Home Loan के लिए जरूरी दस्तावेज 
Home Loan के लिए जरूरी दस्तावेज 

Home Loan पर बैंक द्वारा दिए जाने वाले इंटरेस्ट ऑप्शन 

अपने आर्टिकल में हम आपको जानकारी दे चुके है कि होम लोन क्या है तथा उसे लेने के लिए बैंक द्वारा किन दस्तावेजों की आवश्यकता होती है। जहां बैंक आपको लोन देने से पहले आपसे जुड़े सभी दस्तावेजों का वेरिविकेशन करता है, तो वहीं आपको वह अपनी सुविधा के अनुसार इंटरेस्ट ऑप्शन को चुनने का विकल्प भी देता है।

इन ऑप्शन में फिक्स्ड रेट होम लोन (Fixed Rate Home Loan) और फ्लोटिंग रेट होम लोन (Floating Rate Home Loan) शामिल है। आपको अपने द्वारा लिए गए होम लोन को चुकाने के लिए इन दोनों विकल्पों में से एक विकल्प का चुनाव करना होता है। जानकारी के लिए आपको बता दे कि यह दोनों विकल्प एक दूसरे से काफी भिन्न होते है।

जहां फिक्स रेट लोन में बैंक की EMI फिक्स रहती है। आपको इस ऑप्शन में EMI के विषय में पहले से जानकारी होती है। यह लोन लेने की शुरुआत में ही तय हो जाती है। इस तरह के इंटरेस्ट विकल्प में अर्थव्यवस्था के बदलने पर EMI में कोई भी बदलाव नहीं होता है।  वहीं फ्लोटिंग रेट होम लोन में मार्केट के अनुसार अपने इंटरेस्ट रेट में बदलाव होगा। अगर मार्केट में रेट बढ़ेंगे तो आपकी EMI भी बढेगी और अगर रेट घटेंगे तो आपको EMI में भी कमी होगी। 

Home Loan पर बैंक द्वारा दिए जाने वाले इंटरेस्ट ऑप्शन 
Home Loan पर बैंक द्वारा दिए जाने वाले इंटरेस्ट ऑप्शन 

Home Loan की अवधि का प्रभाव 

अब तक आप होम लोने के विषय में सारी जानकारी मिल गई है, कि आखिर होम लोन कैसे लेना है। लेकिन होम लोन से जुडी एक सबसे जरूरी बात यह भी है कि लोन की अवधि का प्रभाव लोन पर पड़ता है।

अर्थात आपके लोन की अवधि जितनी अधिक लंबी होगी, उतनी ही आपकी मासिक ईएमआई कम होगी। लेकिन इस स्थिति में आपको लोन पर आधिक ब्याज देना होगा। वहीं जितनी छोटी आपके लोन की अवधि होगी आपकी मासिक ईएमआई उतनी अधिक होगी।

लेकिन इस स्थिति में आपका होम लोन जल्दी चुक जाएगा और लोन पर ब्याज भी कम लगेगा। बैंक से मिलने वाले लोन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपको अपनी जरुरत के अनुसार कम ब्याज पर राशि उपलब्ध हो जाती है तथा आप अपने खुद के घर के सपने को पूरा कर सकते है। 

Home Loan की अवधि का प्रभाव 
Home Loan की अवधि का प्रभाव 

उम्मीद है आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया होगा तथा आप जान गए होंगे कि Home Loan कैसे लें।


ये भी पढ़िए

  1. Business Loan कैसे लेते है, इसमें लगने वाले दस्तावेज, इंटरेस्ट रेट और चार्ज
  2. 10th 12th की मार्कशीट से कैसे ले लोन, जानिए Marksheet Loan की पूरी जानकारी
  3. Aadhaar Card से पैसे कैसे निकाले, जानिए AEPS की पूरी जानकारी
  4. Passport कैसे बनाए, जानिए पासपोर्ट बनाने की पूरी जानकारी
  5. घर बैठे पैसे कैसे कमाए, जानिए घर बैठे Money Earning टिप्स
  6. Emitra कैसे खोलते हैं, जानिए पूरी जानकारी

Home Loan के लिए जरूरी दस्तावेज क्या है?

होम के लिए पहचान प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, लेटेस्ट सैलरी स्लिप, फॉर्म 16 (सेल्फ इम्प्लालाइड और व्यापारियों के लिए) और लास्ट 6 महीनो की बैंक स्टेटमेंट आदि।

Home Loan पर बैंक द्वारा कितने इंटरेस्ट ऑप्शन दिए जाते है?

Home Loan पर बैंक द्वारा दो इंटरेस्ट ऑप्शन दिए जाते है – फिक्स्ड रेट होम लोन (Fixed Rate Home Loan) और फ्लोटिंग रेट होम लोन (Floating Rate Home Loan)।

Home Loan की अवधि से लोन पर क्या फर्क पड़ता है?

होम लोन की अवधि से लोन पर लगने वाले ब्याज का निर्धारण होता है।

Spread the love

Leave a Comment