GDP Ka Full Form क्‍या है, जानिए जीडीपी के बारे में पूरी जानकारी

वर्तमान में आपने टीवी न्यूज डिबेट में GDP और अर्थव्यवस्था के बारे में सुना होगा। जहां बताया जाता है कि उस देश कि जीडीपी गिर गई और फलां देश की जीडीपी में वृद्धि हुई। आप अक्सर सुनते पढ़ते होंगे, लेकिन क्या आप जीडीपी के बारे में पूरी जानकारी रखते है।

अक्सर हम अपने दैनिक जीवन में कई सारे ऐसे शॉर्ट फॉर्म का उपयोग करते है, जिनके फुल फॉर्म के विषय में हमें पता भी नहीं होता। अगर आप भी जीडीपी के विषय में नहीं जानते तो आज हम अपने आर्टिकल में आपको जीडीपी के विषय में जानकारी देंगे।

हम अपने पिछले आर्टिकल में आपको जानकारी दे चुके है कि ATM Ka Full Form क्या है । वहीं आज हम अपने आर्टिकल में आपको जानकारी देंगे कि  आखिर GDP Ka Full Form क्‍या है। 

GDP क्‍या है, जानिए जीडीपी के बारे में पूरी जानकारी
GDP क्‍या है, जानिए जीडीपी के बारे में पूरी जानकारी

GDP Ka Full Form क्‍या है

आपको सबसे पहले GDP के फुल फॉर्म के बारे में जानना जरूरी है, जीडीपी का फुल फॉर्म Gross domestic product होता है। यह किसी देश की आर्थिक स्थिति को मापने का पैमाना है।

बताते चले कि भारत में हर तिमाही में जीडीपी की गणना की जाती है। बताते चले कि जीडीपी का आंकड़ा अर्थव्यवस्था के प्रमुख उत्पादन क्षेत्रों में उत्पादन की वृद्धि पर निर्भर करता है। 

बताते चले कि GDP के तहत उद्योग, कृषि और सेवा तीन प्रमुख घटक आते हैं। इन्ही तीन क्षेत्रों में उत्पादन बढ़ने और घटने के औसत के आधार पर जीडीपी की दर तय होती है। 

GDP Ka Full Form क्‍या है
GDP Ka Full Form क्‍या है

ये भी पढ़िए

Aadhaar Card से पैसे कैसे निकाले, जानिए AEPS की पूरी जानकारी


GDP के बारे में 

आपको बता दे कि जीडीपी को सबसे पहले 1935-44 के दौरान एक अमेरिक अर्थशास्त्री साइमन ने इसका उपयोग किया था। साइमन ने ही अमेरिका को इस शब्द से परिचय कराया था।

बता दे कि यह वह समय था जब विश्व की की बैंकिंग संस्थाएं आर्थिक विकास के अनुमान को लगाने का कार्य संभाल रहीं थी। लेकिन  उन्हें अपने द्वारा किए जा रहे कार्य के लिए कोई शब्द नहीं मिल रहा था।

ऐसे में जब अमेरिक अर्थशास्त्री साइमन ने अमेरिकी कांग्रेस में इस GDP शब्द को परिभाषित करके दिखाया तो, उसके बाद अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने इस शब्द का उपयोग शुरू कर दिया। 

GDP के बारे में
GDP के बारे में 

ये भी पढ़िए

Haemoglobin की कमी को कैसे दूर करें, जानिए पूरी जानकारी


GDP का प्रस्तुतीकरण 

आपको बता दे कि जीडीपी 2 तरह से प्रस्तुत होती है, क्योकि उत्पादन की कीमतें महंगाई के साथ घटती बढती रहती हैं।

यह पैमाना कॉस्‍टैंट प्राइस का होता है, जिसके अंतर्गत जीडीपी की दर व उत्पादन का मूल्य एक आधार वर्ष में उत्पादन की कीमत पट तय होता है। जबकि दूसरा पैमाना करेंट प्राइस है, इसमें उत्पादन वर्ष की महंगाई दर शामिल रहती है। 

GDP का प्रस्तुतीकरण
GDP का प्रस्तुतीकरण 

कॉस्‍टैंट प्राइस 

बताते चले की भारत का सांख्यिकी विभाग उत्पादन एवं सेवाकों के मूल्यांकन के लिए एक आधार वर्ष निर्धारित करता है।

इस वर्ष के दौरान ही कीमतों को आधार बनाकर उत्पादन की कीमत और तुलनात्मक वृद्धि दर तय होती है तथा यही कॉस्‍टैंट प्राइस GDP कहलाता है। ऐसा इसलिए होता है ताकि जीडीपी की दर्द को महंगाई से अलग रखकर सही ढंग से मापी जा सके। 


ये भी पढ़िए

Weather Forecast क्या है, जानिए मौसम के पूर्वानुमान के विषय में पूरी जानकारी


करेंट प्राइस 

यह जीडीपी मापने की दूसरा पैमाना है। यदि जीडीपी के उत्पादन मूल्य में महंगाई कीई दर्द जोड़ी जाए तो हमें आर्थिक उत्पादन की वर्तमान कीमत प्राप्त हो जाती है। अर्थात आपको कॉस्‍टैंट प्राइस जीडीपी को वर्तमान महंगाई दर से जोड़ना होता है। 

उम्मीद है आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया होगा तथा आप जान गए होंगे कि GDP Ka Full Form क्‍या है।


ये भी पढ़िए

  1. RIP का फुल फॉर्म क्या है, इसका इस्तेमाल कब किया जाता है
  2. CPU का फुल फॉर्म क्या है, जानिए पूरी जानकारी
  3. DNA का फुल फॉर्म क्या होता है, जानिए पूरी जानकारी
  4. कैसे करें Kaunch ke Beej का सेवन , जानिए पूरी जानकारी

FAQ

GDP कितने प्रकार से प्रस्तुत होती है?

GDP 2 तरह से प्रस्तुत होती है,कॉस्‍टैंट प्राइस GDP और करेंट प्राइस जीडीपी।

GDP Ka Full Form क्या होता है?

GDP का फुल फॉर्म Gross domestic product होता है।

Spread the love

Leave a Comment